PM Modi On Brazil

PM Modi On Brazil: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्राजील में चल रहे दंगों और तोड़फोड़ के बीच वहां के अधिकारियों को अपना समर्थन दिया है। दरअसल, जायर बोल्सनारो सपोर्टर्स ने हाल ही में निर्वाचित हुए राष्ट्रपति लूला की नियुक्ति का विरोध करने के लिए प्रमुख सरकारी बिल्डिंग्स पर अटैक कर दिया।

प्रदर्शनकारियों का एक समूह, हरे और पीले रंग के झंडे पहने ब्रासीलिया में सत्ता की सीट पर चढ़ गए, यहां तक कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मुख्यालय को भी नुकसान पहुंचाया और रैम्प से प्लानाल्टो प्रेसिडेंशियल पैलेस तक चढ़ गए।

पीएम मोदी ने जताई चिंता-

सरकारी केंद्रों पर हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “ब्रासीलिया में सरकारी संस्थानों के खिलाफ दंगे और तोड़फोड़ की खबरों से बेहद चिंतित हूं। लोकतांत्रिक परंपराओं का सभी को सम्मान करना चाहिए। हम ब्राजील के अधिकारियों को अपना पूरा समर्थन देते हैं।”

बोल्सनारो समर्थक लंबे समय से लूला को सत्ता संभालने से रोकने के लिए सैन्य हस्तक्षेप की मांग कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने 30 अक्टूबर के चुनाव में बोल्सनारो को हरा दिया था। लूला ने रनऑफ को 50.9 प्रतिशत से 49.1 प्रतिशत के स्कोर से जीत लिया।

लूला और बोलसोनारो ने क्या कहा-

बोलसोनारो ने नेशनल कांग्रेस, प्रेसिडेंशियल पैलेस में “लूट-पाट और आक्रमण” की निंदा की। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘शांतिपूर्ण प्रदर्शन, कानून का सम्मान करना लोकतंत्र का हिस्सा है।’

उन्होंने कहा, “अपने जनादेश के दौरान, मैं हमेशा संविधान के अनुसार कार्य करता रहा हूं, कानूनों, लोकतंत्र, पारदर्शिता और हमारी पवित्र स्वतंत्रता का सम्मान और बचाव करता रहा हूं।”

लुइज़ इनासियो लूला डा सिल्वा ने “फासीवादी” हमले के रूप में इस घटना की निंदा की। 77 वर्षीय अनुभवी वामपंथी नेता ने कहा, जिन्होंने एक सप्ताह पहले ब्राजील के चुनावों में बोल्सनारो को हराकर पदभार संभाला था “इन फासीवादी कट्टरपंथियों ने कुछ ऐसा किया है जो इस देश के इतिहास में पहले कभी नहीं देखा गया है। हम पता लगाएंगे कि ये उपद्रवी कौन हैं और उन्हें कानून की पूरी ताकत के साथ खत्म किया जाएगा।”

विश्व नेताओं ने हमले की निंदा की-

संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन ने सोमवार को ब्राजील में “लोकतंत्र पर हमले” की निंदा की और देश के लोकतांत्रिक संस्थानों को समर्थन दिया। उन्होंने ट्वीट किया, “मैं ब्राजील में लोकतंत्र और सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण पर हमले की निंदा करता हूं। ब्राजील के लोकतांत्रिक संस्थानों को हमारा पूरा समर्थन है और ब्राजील के लोगों की इच्छा को कम नहीं आंका जाना चाहिए।”

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी इस घटना की निंदा की और इसे “ब्राजील के लोकतांत्रिक संस्थानों पर हमला” करार दिया। उन्होंने आगे कहा कि ब्राजील के लोगों और लोकतांत्रिक संस्थानों की इच्छा का सम्मान किया जाना चाहिए।

गुटेरेस ने एक ट्वीट में कहा, “मैं ब्राजील की लोकतांत्रिक संस्थाओं पर आज हुए हमले की निंदा करता हूं। ब्राजील के लोगों और लोकतांत्रिक संस्थानों की इच्छा का सम्मान किया जाना चाहिए। मुझे पूरा विश्वास है कि यह होगा। ब्राजील एक महान लोकतांत्रिक देश है।”

ब्रासीलिया के गवर्नर को हटाया-

इस बीच, ब्राजील के सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति एलेक्जेंडर डी मोरेस ने रविवार के हमलों के बाद ब्रासीलिया के गवर्नर इबनीस रोचा को उनके पद से हटा दिया है।