दिग्गज अनिल कुंबले से भी आगे निकला चंबल का यह गेंदबाज, हैट्रिक सहित झटक डाले 10 विकेट

टेस्ट में 3 गेंदबाजों ने ही एक पारी में झटके 10 विकेट 

10 wickets in innings
10 wickets in innings

नई दिल्ली । क्रिकेट (cricket) के मैदान पर हर दिन कोई ना कोई रिकॉर्ड बनता ही है। कहते हैं कि कुछ रिकॉर्ड टूटने के लिए बनते हैं और कुछ रिकॉर्ड ऐसे भी होते हैं, जिनका टूट पाना लगभग असंभव सा लगता है। हाल ही में मध्यप्रदेश में भी एक रिकॉर्ड बना है। आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो इस रिकॉर्ड के मामले में भारत के दिग्गज गेंदबाज अनिल कुंबले (anilkumble) भी पीछ छूट गए हैं।

चंबल की धरती से निकला स्पिन का जादूगर

चंबल की धरती से स्पिन का जादूगर निकला है। उसने महान भारतीय क्रिकेटर अनिल कुंबले के अंदाज में पारी के सभी 10 विकेट चटकाने का कारनामा किया है। मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ की ओर से कराए गए एक टूर्नामेंट में युवा अनुज ने उज्जैन के खिलाफ यह कारानामा किया।

India vs Sri Lanka : हारे हुए मैच में अक्षर पटेल ने बना दिया रिकॉर्ड, धोनी भी रह गए पीछे

एक ही स्पैल में झटक लिए सभी 10 विकेट

मेजर एमएम जगदाले ट्राफी (अंडर-15) क्रिकेट टूर्नामेंट में चंबल का मुकाबला उज्जैन से था। इस मुकाबले की दूसरी पारी में जब बैटिंग करने उज्जैन की टीम उतरी तो अनुज की भयंकर वाली बॉलिंग देखने को मिली। इस युवा स्पिनर ने अपनी गेंदों पर उज्जैन के बल्लेबाजों को खूब नचाया। उसने सिर्फ एक स्पैल की बॉलिंग की और सभी 10 विकेट चटका डाले। उन्होंने 10.3 ओवर में 24 रन देकर यह रिकॉर्ड कायम किया। इस दौरान 3 ओवर मेडन भी रहे।

आखिरी 3 विकेट रहे हैट्रिक

यही नहीं, अनुज ने जो आखिरी 3 विकेट लिए वह हैट्रिक भी थी। इस तरह उज्जैन की टीम 119 रनों पर ढेर हो गई। चंबल ने यह मुकाबला 290 रनों के रिकॉर्ड अंतर से जीता। अनुज ने पहली पारी में भी 6 विकेट झटके थे। इस तरह उन्होंने मैच में 16 विकेट चटकाए। बता दें कि ऐसा दूसरी बार हुआ है, जब मध्य प्रदेश की ओर से कराए गए टूर्नामेंट में एक पारी के सभी 10 विकेट एक गेंदबाज ने लिए हैं। इससे पहले 2016 में उज्जैन के लेग स्पिनर पलाश कोचर ने होशंगाबाद के खिलाफ पारी में सभी 10 विकेट लिए थे।

टेस्ट में 3 गेंदबाजों ने ही एक पारी में झटके 10 विकेट

उल्लेखनीय है कि भारत के लिए अनिल कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ 1998-99 में एक पारी के सभी विकेट झटकने का रिकॉर्ड बनाया था। उनसे पहले इंग्लैंड के जिम लेकर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1956 और न्यूजीलैंड के एजाज पटेल ने भारत के खिलाफ 2021 में यह कारनामा किया है। टेस्ट क्रिकेट इतिहास में तीन बार ही ऐसा हुआ है।