Penalty for not following traffic rules
Penalty for not following traffic rules

भोपाल। प्रदेश में अब यातायात के नियमों का पालन नहीं करने वालों को जेब ढीली करनी पड़ेगी। परिवहन विभाग को लेकर बनाई गई मंत्रि मंडलीय उप समिति की सिफारिशों के आधार पर कैबिनेट ने यातायात नियमों का पालन नहीं करने पर होने वाली चालानी कार्रवाई की राशि में बढ़ोत्तरी कर दी है। मरीजों को लेकर जाने वाली एंबुलेंस का रास्ता रोकने पर 10 हजार रुपए जुर्माना लगाया जाएगा।

बिना हेलमेट वाहन चलाने पर अभी तक 250 रुपए लगता था, जिसे बढ़ाकर अब 300 रुपए कर दिया गया है। बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाते पाए जाने पर लगने वाला जुर्माना यथावत पांच सौ रुपए रखा गया है। पहली बार वाहनों की तय गति से तेज वाहन चलाने पर पांच हजार औ र दूसरी बाद निर्धारित गति से तेज वाहन चलाने पर 10 हजार रुपए जुर्माना लगाया जाएगा। मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार बिना लाइसेंस वाहन चलाते पकड़े जाने पर जुर्माना राशि के तौर पर 1 हजार रुपए भरना होगा।

अब गाड़ी मॉडिफाई करके चलाने वाले वाहन चालकों को 10 हजार रुपए का जुर्माना भरना होगा, हालांकि, कैब में ओवरलोडिंग करके चलाने पर प्रति व्यक्ति जुर्माना राशि में राहत दी गई है। इसे घटाकर 750 रुपए से घटाकर 200 रुपए प्रति व्यक्ति किया गया है।

बात करते बाइक चलाई, प्रेशर हॉर्न बजाया तो लगेंगे एक हजार-

अब बिना अनुमति वाले वाहनों में प्रेशर हॉर्न लगाने वालों पर भी शिकंजा कसना शुरू हो रहा है। अब वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करते पकड़े जाने पर दो पहिया वाहन चालक पर 1 हजार रुपए और कार चालकों को दो हजार रुपए का जुर्माना देना होगा। गाडियों में प्रेशर हॉर्न का उपयोग करने पर 1 हजार रुपए के जुर्माने का प्रावधान किया गया है।

अब सड़क पर फर्राटा भरने वाले वाहन चालकों से 10 हजार रुपए तक जुर्माना वसूला जाएगा। बिना पंजीयन के वाहन चलाने पर दो पहिया और तीन पहिया वाहनों पर 2 हजार रुपए का जुर्माना और लाइट मोटर व्हीकल पर 3 हजार रुपए का जुर्माना किया जाएगा। जबकि, भारी वाहनों पर यह जुर्माना 5 हजार लगेगा।

इसी तरह की दूसरी बार गलती करने पर दो पहिया पर तीन हजार, लाइट मोटर व्हीकल पर 5 हजार रुपए और हैवी वाहन पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। मालवाहक वाहनों में ओवर लोडिंग पर जुर्माना राशि को 10 हजार रुपए से बढ़ाकर 20 हजार रुपए किया गया.प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों जिनके पास पीयूसीसी प्रमाण पत्र नहीं हैं, ऐसे नॉन ट्रांसपोर्ट वाहनों पर एक हजार रुपए का जुर्माना होगा। परिवहन वाहनों पर यह जुर्माना राशि 5 हजार रुपए होगी, यह पहले 3 हजार रुपए थी।

बेटी है स्वर्ग की सीढ़ी, ये पढ़ेगी तो बढ़ेगी अगली पीढ़ी…

इन धाराओं में घटाया जुर्माना-

कुछ धाराओं में वर्तमान जुर्माने की दरों में कमी भी गई है। इसमें अतिरिक्त सवारी ढोने पर 1500 रुपए की जगह अब 200 रुपए प्रति सवारी किया गया है। इसी प्रकार ठेका गाड़ी द्वारा सवारी को ले जाने से इंकार करने पर 500 रुपए का जुर्माना था, जिसे कम करके दो पहिया/तीन पहिया के लिए 50 रुपए एवं अन्य वाहनों में 500 रुपए किया गया है। वहीं, बिना टिकट सवारी ढोने पर पूर्व में 1 हजार की दर थी, जिसे कम करके 500 रुपए निर्धारित की गई है।

सड़कों को नुकसान पहुंचाया तो 10 हजार जुर्माना-

वहीं, परिवहन विभाग ने माल वाहकों द्वारा ओव्हर लोडिंग कर सड़कों को नुकसान पहुंचाने की स्थिति में जुर्माना 1 हजार रुपए से बढ़ाकर 10 हजार रुपए किया गया है। वहीं, दुर्घटनाओं से बचाने के लिए निर्धारित आकार से ज्यादा भरने पर दरों में वृद्धि की गयी हैं। इसी प्रकार प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए प्रथम अपराध पर 1 हजार रुपए तथा परिवहन वाहनों पर पांच हजार रुपए की दर तथा बाद में 10 हजार रुपए रुपए जुर्माना भरना पड़ेगा।