'Sughosh Darshan'
'Sughosh Darshan'

Bhopal News: भोपाल के ओल्ड कैम्पियन ग्राउंड में सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर ‘सुघोष दर्शन’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। सुघोष दर्शन कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने पहले घोष वादन की प्रस्तुति दी। इनमें बांसुरी वादन, शंख वादन सहित अन्य वाद्ययंत्रों का वादन किया गया। इसके अलावा छात्र-छात्राओं ने ऊं और स्वास्तिक चिन्हित सहित सुघोष दर्शन की आकृति का भी प्रदर्शन किया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम ने कहा कि अंग्रेजों ने आजादी चांदी की तश्तरी में रखकर नहीं दी थी। इसके लिए कई क्रांतिवीरों ने अपनी शहादत दी। मैं विद्या भारती का ध्यान्यवाद देता हूं कि जो उन्होंने यह कार्यक्रम आयोजित किया। सीएम ने कहा कि आजादी का श्रेय केवल एक खानदान को दिया गया। जबकि आजादी की लड़ाई में नेताजी सुभाष चंद्र बोस, खुदीराम, सरदार पटेल समेत कई लोगों ने अपना योगदान दिया। सीएम ने कहा कि मैं नेताजी के चरणामें प्रमाण करता हूं।

छात्र-छात्राओं ने ऊं और स्वास्तिक की आकृति का प्रदर्शन किया-

सुघोष दर्शन कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने ऊं और स्वास्तिक की आकृति का प्रदर्शन किया। सीएम ने कहा कि हमारे देश में कुछ लोग ऐस है, जिन्हें हमारी संस्कृति, परंपरा, जीवनदर्शन, महापुरुष, अध्यात्म और धर्म की आलोचना करने में आनंद आता है। वे लोग यह नहीं जानते है कि राम के बिना यह देश जाना नहीं जाता है। राम हमारे रोम-रोम में बसे हैं। इस देश में जब सुख होता है, तो राम का नाम लिया जाता है और दुख होता है तो भी राम का नाम लिया जाता है। अंतिम संस्कार में भी राम का नाम लिया जाता है। राम नाम सत्य है।

सीएम ने कहा कि हमारे रामायण हो, महाभारत हो, वेद हों, उपनिषद हों, श्रीमद्भगवद्गीता हो यह अमूल्य ग्रंथ हमारे हैं और इन ग्रंथों में मनुष्य को नैतिक बनाने की मनुष्य को संपूर्ण बनाने की क्षमता है। इसलिए हमारे धर्म ग्रंथों की शिक्षा भी, मैं मुख्यमंत्री होने के नाते भी कह रहा हूं कि हम तो शासकीय विद्यालयों में भी देंगे। रामायण, महाभारत, वेद, पुराण, उपनिषद हों, ये हमारे अमूल्य ग्रंथ हैं। इन ग्रंथों में मनुष्य को नैतिक व संपूर्ण बनाने की क्षमता है। इन पवित्र ग्रंथों की शिक्षा देकर हम अपने बच्चों को पूर्ण भी बनायेंगे, नैतिक भी बनायेंगे।