भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन दिनों युवाओं को फोकस कर कई योजनाओं पर काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में अब शिव पुत्र कार्तिकेय भी आगे आए हैं। लंबे समय से राजनीतिक मंचों पर अपनी मौजूदगी दर्ज करा रहे कार्तिकेय ने युवाओं को केंद्र में रखकर कई योजनाओं पर काम शुरू कर दिया है। बड़ी बात यह है कि इन योजनाओं को सरकारी सहयोग से अलग रखा गया है।

नि:शुल्क “मामा कोचिंग क्लासेस” का शुभारंभ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बड़े बेटे कार्तिकेय सिंह चौहान जबसे अमेरिका से पढ़ाई पूरी करके लौटे हैं, उनका पूरा फोकस अपने पिता के विधानसभा क्षेत्र बुधनी के युवाओं पर केन्द्रित है। वे बुधनी के युवाओं के लिए हर महीने कुछ न कुछ नया कर रहे हैं। कभी क्रिकेट प्रतियोगिता, कभी रोजगार मेला, कभी स्वरोजगार प्रशिक्षण शिविर। अब नए साल में कार्तिकेय ने नया काम कर डाला है। बुधनी, शाहगंज, नसरूल्लागंज के अधिक से अधिक बच्चे प्रशासनिक सर्विस में जा सकें, इसलिए उन्होंने “मामा कोचिंग क्लासेस” का शुभारंभ किया है। खास बात यह है कि यह कोचिंग सीएसआर एवं गैर सरकारी संगठनों के आर्थिक सहयोग से युवाओं को पूरी तरह नि:शुल्क प्रशासनिक सेवा में जाने की तैयारी कराएगी।

करणी सेना : मांगें मनवाने से ज्यादा ‘शिवराज’ को ‘डिस्टर्ब’ करने की सियासत

 

कार्तिकेय को माना जा रहा उत्तराधिकारी

कार्तिकेय चौहान की राजनीतिक मंचों पर पहुंच को उनके शिवराज के उत्तराधिकारी के तौर पर जोड़कर देखा जाने लगा है। जहां प्रदेश के अन्य भाजपा नेता अपने बेटा, बेटियों और परिवार के अन्य सदस्यों को सियासी मैदान में उतारने की होड़ में लगे हुए हैं, वहीं कार्तिकेय की ये सक्रियता उनके अगले चुनाव में ताकत से मौजूद रहने की संभावनाओं से जोड़ा जाने लगा है।