Bhopal Crime
Bhopal Crime

भोपाल। राजधानी में बुजुर्ग महिलाओं को झांसे में लेकर और हिप्नोटाइस करते हुए ठगी करने वाला गिरोह सक्रिय है। गिरोह में महिला और पुरूष और उनके साथ बारह तेरह साल का नाबालिग बच्चा है। तीनों बुजुर्ग महिलाओं को देखकर निशाना बना रहे हैं। आरोपी बातों में उलझाकर या लोभ दिखाकर ठगी की वारदात को अंजाम देते हैं। इसके अलावा आरोपी हिप्नोटाइस कर भी वारदात को अंजाम दे रहे हैं।

गिरोह ने सोमवार दोपहर क्रमश: कोहेफिजा और बैरागढ़ में दो वारदातों अंजाम दिया और उनसे जेवरात लेकर उन्हें नकली जेवरात थमाकर फरार हो गए। पुलिस ने दोनों ही प्रकरणों में ठगी का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।

मदद के बहाने मांगे जेवरात-

कोहेफिजा पुलिस ने बताया कि हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी कोहेफिजा निवासी निर्मला पहलालानी (73) सोमवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे इलाज के लिए हमीदिया अस्पताल परिसर पहुंची थीं। उसी दौरान एक बच्चा उनके पास आया और कहा कि हमें उज्जैन जाना है, मदद की जरूरत है। इस बीच बच्चे के माता-पिता भी वहां आ गए और तीनों ने मिलकर बुजुर्ग महिला को मदद के नाम पर झांसे में लेकर सोने की दो अंगूठी, एक चेन व दो सोने की चूडिय़ां उतरवा लीं। जालसाजों ने सभी जेवर एक रुमाल में बांध लिए और यहां- वहां हो गए। थोड़ी देर बाद वे तीनों फिर लौटकर महिला के पास आए। तब महिला ने अपने जेवर मांग लिए।

जालसाज महिला, उसके पति व बच्चे ने रुमाल में बंधे जेवर बुजुर्ग महिला को लौटा दिए। घर आकर फरियादी महिला ने रुमाल खोलकर देखा तो उसमें नकली जेवर रखे मिले। पुलिस ने बताया कि आरोपियों न करीब दो ताला सोने के जेवरात ठगे हैं। प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है।

Bhopal Crime : पुराने लेन-देन का हवाला देकर ठेकेदार से की अड़ीबाजी

लोभ देकर असली जेवरात लेकर नकली थमाए-

इस वारदात को अंजाम देने के बाद गिरोह बैरागढ़ की तरफ बढ़ा और वहां पीएनबी चौराहा पर महिला के साथा ठगी की वारदात की। बैरागढ़ पुलिस ने बताया कि गीता पसरीजा पति जितेंद्र पसरीजा (50) हनुमान व्यायाम शाला वनट्री में रहती है। उन्होंने पुलिस को शिकायत करते हुए बताया कि दोपहर करीब दो बजे के आसपास वह सामान खरीदने के लिए बर्तन मार्केट बैरागढ़ जा रही थी, तभी शुलभ शौचालय के पास पीएनबी चौराहा पर उन्हें एक महिला और पुरूष मिले। उनके साथ एक तेरह साल का बच्चा भी था।

तीनों ने बातों में उलझा लिया और पूछने लगे कि कपड़े की दुकान कहा है। इस बीच आरोपियों ने कहा कि इस लड़के के पास बहुत सारे रुपए है। आप अपने जेवरात देकर मदद करों उसे जेवरात दिखाकर रुपए ले लेंगे। मैंने उनसे कहा कि मुझे जल्दी घर जाना है। इसके बाद उन्हें हाथ से दो अंगूठी और गले से मंगलसूत्र उताकर दे दिया। मैंने जल्दी घर जाने की बात कही तो उन्होंने जेवरात रूमाल में लपेटकर दिए थे। रूमाल लेकर मैं घर चली गई। घर पर पता चला कि जो जेवरात उन्होंने मुझे दिए है वह मेरे नहीं है, बल्कि नकली है। इसके बाद पुलिस को शिकायत की।