looted from collection agent
looted from collection agent

भोपाल। बैरागढ़ स्थित मुख्य मार्ग पर गोल्डन विलेज के समाने बीती रात करीब सवा नौ बजे बाइक सवार तीन बदमाशों ने चलती गाड़ी पर कलेक्शन एजेंट को हाथ सिर में डंडा मार दिया। फरियादी के गिरते ही आरोपी उसकी एक्टिवा लेकर फरार हो गए। गाड़ी में 6 लाख रुपए केश होने का दावा फरियादी की ओर से किया गया है।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने घेराबंदी शुरु की। सर्चिंग के दौरान गांधी नगर की चार्ली जवानों को अब्बास नगर में एक्टिवा सवार तीन युवक दिखे। पुलिस को देख आरोपी गाड़ी को छोड़कर फरार हो गए। हालांकि वाहन में रखी नकदी गायब है। पुलिस को पूरी कहानी संदिग्ध लग रही है। पीड़ित के बयानों में लगातार विरोधाभास नजर आ रहा है। मामले में मारपीट कर लूट का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

टीआई डीपी सिंह के अनुसार 52 वर्षीय दौलत परवानी नगर की पानी टंकी के पास बैरागढ़ में रहते हैं। वह अयोध्या नगर स्थित एक प्राइवेट फाइनेंस कंपनी में काम करते हैं। उक्त कंपनी पर्सेंटेज लेकर रकम को ऑन लाइन ट्रांसफर करने का काम करती है। बाद में ऑन लाइन दी रकम को केश में वसूलने का काम किया जाता है। इसी का कलेक्शन दौलत करते हैं। कल शाम को वह कई स्थानों से कलेक्शन करने के बाद में घर के लिए लौट रहे थे।

पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया –

इस समय वह मोबाइल पर बात करते हुए वाहन को चला रहे थे। लालघांटी से बैरागढ़ जाते समय ईसाई कब्रिस्तान से करीब सौ मीटर की दूरी पर गोल्डन विलेज के सामने पीछे से आए बाइक सवार तीन लड़कों ने उन्हें चलती गाड़ी पर डंडा मार दिया। दससे वह जमीन पर गिर गए। उनके गिरते ही आरोपियों ने एक्टिवा को उठाया और लेकर फरार हो गए। फरियादी ने थाने पहुंचकर मामले की जानकारी दी। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

Pathaan: भोपाल सहित प्रदेशभर में प्रदर्शन और नारेबाजी, बंद करने पड़े टिकट काउंटर

 इन सवालों के जवाब तलाश रही पुलिस-

फरियादी के अनुसार आरोपी बाइक से थे और एक्टिवा तथा बाइक दोनों से फरार हुए थे। देर रात पुलिस की सर्चिंग के दौरान अब्बास नगर में आरोपियों का पुलिस की चार्ली वाहन से सामना हुआ। उनहें रोकने का प्रयास किया तो एक्टिवा छोड़कर फरार हो गए।

इस समय तीनों आरोपी केवल एक्टिवा पर सवार थे। उनका वाहन कहां गया? लूट का जो समय परियादी ने बताया है उस वक्त उसकी लोकेशन पीर गेट थी। पुलिस ने जब एक्टिवा बरामद की उसमें रखी नकदी गायब थी, जबकि आरोपी पुलिस के सामने से फरार हुए हैं, उन्हें रकम निकालने का समय नहीं मिला था, फिर रकम कहां गई?

वहीं पुलिस का कहना है कि आरोपी किन रास्तों से आया, इसकी सही जाकनकारी नहीं दे रहा है, जिससे सर्विलांस कैमरों की मदद से चेक किया जा सके कि बदमाश कहां से उनका पीछा कर रहे थे। गाड़ी में रकम कितनी थी, इसका सही फिगर भी वह नहीं बता रहे हैं, कभी 6 कभी सात लाख रुपए लूटी गई रकम की कीमत बताई जा रही है।