Fisheries Company of Haryana
Fisheries Company of Haryana

भोपाल। मछलीपालन के नाम पर मध्यप्रदेश में आधा सैकड़ा से अधिक लोगों के साथ ठगी कर चुकी हरियाणा की फिशरीज कंपनी के खिलाफ कोहेफिजा थाना पुलिस ने धोखाधड़ी का एक और मामला दर्ज कर लिया है। इस मामले में आरोपी कंपनी के कर्ताधर्ता और कर्मचारियों ने एक युवती से 22 लाख 40 हजार रुपए से अधिक की ठगी मछली पालन में निवेश के नाम पर ठगे हैं।

आकृति ईको सिटी बावड़िया कला-

मामला 2020 का है, लॉकडाउन का बहाना बनाकर आरोपियों ने दो साल तक मामले को लटकाए रखा। इसके बाद पुलिस में शिकायत हुई। पुलिस ने शिकायत जांच के बाद प्रकरण दर्ज कर लिया है। कोहेफिजा पुलिस के अनुसार आकांक्षा सिंह पुत्री अनिल सिंह (29) आकृति ईको सिटी बावड़िया कला में माता-पिता के साथ रहती हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि हलालपुरा में हरियाणा की फिशरीज कंपनी का कार्यालय था।

मछली पालन में मुनाफे का लालच-

उक्त कार्यालय में उसे कंपनी का कर्ताधर्ता बृजेश कश्यप, प्रहलाद शर्मा के साथ कंपनी के अधिकारी राजेंद्र सिंह राजपूत, गायत्री परिहार, वेदप्रकाश शर्मा मिले थे। सभी ने मछली पालन में मुनाफे का लालच देकर पैसे निवेश कराए। फरियादिया से 22 लाख रुपए लेकर मकान में तालाब बनवाकर, उसमें पानी, बिजली और बाड़ की व्यवस्था करने का झांसा दिया। इसके बाद मछली पालन में मोटा मुनाफा कमाने का लालच दिया था।

फरियादिया ने पैसे दे दिए तो आरोपियों ने लॉकडाउन का बहाना बनाकर काम नहींकराया। इसके बाद कंपनी के खिलाफ अलग-अलग थानों में मामले दर्ज होते गए। कंपनी के अधिकारी कार्यालय में ताला लगाकर फरार हो गए। थाना प्रभारी विजय सिंह सिसौदिया ने बताया कि उक्त कंपनी के कई आरोपी पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं। मामले की जांच की जा रही है।

Rewa plane crash: मंदिर की शिखर से टकराकर ट्रेनी विमान गिरा, पायलट की मौत

श्री सांई ट्रेडर्स के खिलाफ दर्ज किया गया 420 का मामला

भोपाल। मंगलवारा रोड़ स्थित श्री साई ट्रेडर्स में दुर्गन्धयुक्त खड़ा धना विक्रय हेतु संग्रहित पाये जाने पर 2 नमूने जाँच हेतु लिये गये थे। दोनों नमूने असुरक्षित पाये जाने के कारण थाना मंगलवारा में भारतीय दण्ड संहिता की धारा 420, 272, 273 के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज की गई है ।

मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया के निर्देशन में मिलावट के विरुद्ध कार्रवाही की जा रही है। इसी के चलते यह कार्रवाई की गई। खाद्य एवं आौषधि प्रशासन द्वारा यह कार्रवाई की गई जिसमें अनिल तलरेजा प्रोपायटर श्री साई ट्रेडर्स के खिलाफ यह मामला दर्ज किया गया है। दर्ज एफआईआर में लिखा गया है कि श्री साई ट्रेडर्स का निरीक्षण विक्रेता अनिल कुकरेजा प्रोप्राईटर श्री साई ट्रेडर्स, मंगलवारा रोड, भोपाल की उपस्थिति में किया गया।

निरीक्षण के दौरान मौके पर लगभग एक क्विटल आंशिक रूप से सडे और दुर्गंधयुक्त खड़ा धनिया को विक्रय हेतु सुखाये जाना तथा लगभग चार किंटल प्रथम दृष्टतया गुणवत्ताहीन बड़ा धनिया का भण्डार होना पाया गया। प्रतिष्ठान में सीलनयुक्त फर्श के समीप मसालों का भण्डारण होना तथा सीलन के कारण मसालों में दुर्गंध होना पाया गया। गुणवता का परीक्षण करने हेतु धनिया के दो नमूने लिये गये थे जो कि राज्य खाध परीक्षण प्रयोगशाला भोपाल के जाँच प्रतिवेदन क्रमांक 11522 दिनांक 29 नवंबर 2022 के अनुसार असुरक्षित और हानिकारक होना पाये गये है।

विक्रेता के द्वारा स्वास्थ्य के लिये हानिकारक सडे एवं दुर्गंधयुक्त खड़ा धनिया का विक्रय किया जाना एवं विक्रय हेतु भण्डारण किया जाना लोक स्वास्थ्य के प्रति गंभीर अपराध तथा आमजन के साथ धोखाधड़ी है। लिहाजा 420 का मामला दर्ज किया जाए। उक्त एफआईआर जगदीश प्रसाद विश्वकर्मा खाद्य एवं सुरक्षा अधिकारी खाध सुरक्षा प्रशासन के आवेदन पर दर्ज किया गया है।