Teeth Whitening Foods
Teeth Whitening Foods

Teeth Whitening Foods: रोजाना की कुछ खराब आदतों की वजह से जैसे शराब, चाय या कॉफी का अधिक सेवन, स्मोकिंग करना और कोल्ड ड्रिंक और मीठे पेय पदार्थों के अधिक सेवन से भी आपके दांतों में पीलापन आ जाता है। पीले दांत और मुंह से बदबू आना आपके लिए शर्मिंदगी का कारण बन सकता है। अगर आप बिना डेंटिस्ट के दांतों को चमकदार बनाना चाहते हैं, तो आपको इन फूड को डाइट में शामिल करना चाहिए।

मुंह खोलते ही अगर पीले और गंदे दांत दिखने लगते हैं तो शर्मिंदगी उठानी पड़ जाती है। कई बार तो गंदे दांतों की वजह से लोग खुलकर हंस भी नहीं पाते। दांतों पर जमा गंदगी और पीलापन प्लाक और टार्टर होता है। जो एक तरह का बैक्टीरिया है। लगातार इसके जमने से मुंह से बदबू आने लगती है और डॉक्टर के पास जाकर ही इसे साफ कराना पड़ता है। इन घरेलू नुस्खों से दांतों के पीलेपन को साफ किया जा सकता है।

स्वस्थ शरीर की तरह ही स्वस्थ दांत भी जरूरी हैं। बहुत से लोग दांतों के स्वस्थ पर ध्यान नहीं देते हैं। दांतों की अनदेखी करने से आपके दांतों पर पीला मैल जैम सकता है जिससे वो भद्दे और बदबूदार हो सकते हैं। साथ ही आपको सांस की बदबू, मसूड़ों में खून और कीड़े लगने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप पीले दांतों को सफेद करना चाहते हैं तो किचन में मौजूद कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर दांतों को चमकदार बना सकते हैं।

दांत सफेद करने वाले खाद्य पदार्थ-

Onion Peel: ऐसे करें प्याज के छिलकों का इस्तेमाल, कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स होगी दूर

सेब को छिलके के साथ खाएं-

सेब खाने से दांत साफ होते हैं और सांसों की बदबू से भी राहत मिलती है। सेब की रेशेदार छिलके और गूदा टूथब्रश का काम करते हैं और दांतों में चिपके प्लेक को दूर करते हैं। सेब में मौजूद अम्लता से सांस की बदबू का कारण बनने वाले खराब बैक्टीरिया को मारने में मदद मिलती है। सेब को हमेशा छिलका के साथ खाएं क्योंकि फाइबर से भरा होता है जो दांतों और मसूड़ों को साफ रखने में मदद करता है।

गाजर का सेवन-

सेब की तरह गाजर में भी फाइबर भरे होते हैं और इसे खाने से दांतों पर जमा प्लेक खत्म होता है जिससे चमक आती है। गाजर के सेवन से लार का उत्पादन भी बढ़ता है। जो स्वाभाविक रूप से दांतों को साफ करता है। दांतों की सफाई के अलावा गाजर में कई विटामिन बी भी होते हैं, जो मसूड़े की सूजन से लड़ते हैं।

स्ट्रॉबेरीः स्ट्रॉबेरी में मैलिक एसिड का लेवल हाई होता है जो अक्सर कुछ प्रकार के टूथपेस्ट में पाया जाता है। मैलिक एसिड एक नैचुरल एस्ट्रिंजेंट की तरह काम करता है और दांतों की जड़ों में जमा गंदगी को साफ करता है। स्ट्रॉबेरी में साइट्रिक एसिड भी पाया जाता है और इनेमल को कमजोर करता है।

तरबूजः तरबूज में स्ट्रॉबेरी से ज्यादा मैलिक एसिड होता है। मैलिक एसिड आपके दांतों को हल्का करने और लार उत्पादन को बढ़ावा देने में सहायक है। तरबूज की रेशेदार बनावट आपके दांतों को स्क्रब करती है, जिससे दाग-धब्बों को दूर करने में मदद मिलती है।

रेड वाइनः ऐसा माना जाता है कि रेड वाइन में एसिड और टैनिन जैसे तत्व होते हैं, जो इनेमल परत को दबा सकते हैं। वाइन पीने से आपके दांत का रंग गहरा हो जाता है। आप अपनी वाइन के साथ पनीर खाकर रेड वाइन के प्रभाव को कम कर सकते हैं। बाद में दांतों को ब्रश करने से भी मदद मिल सकती है।

प्याजः प्याज में पावरफुल एंटी बैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जो मुंह में कुछ ऐसे बैक्टीरिया को मार सकते हैं जो दांतों की सड़न पैदा करते हैं। इसके प्रभाव को देखने के लिए आपको प्याज को सलाद के रूप में खाना चाहिए।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से दवा या इलाज नहीं है।