onion peels
onion peels

Use of onion peels: अगर आप भी प्याज के छिलकों को बेकर समझकर फेंक देती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि प्‍याज के छिलकों बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते है। इसमें विटामिन ए, सी, ई भी पाया जाता है। प्याज के छिलके का उपयोग कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स के लिए किया जाता है। आज हम आपको प्‍याज के छिलके के फायदे के बारे में बताएंगे।

प्याज एक ऐसी सब्जी है जिसका इस्तेमाल लगभग हर सब्जियों में किया जाता है। प्याज के बिना सब्जियों में कोई स्वाद ही नहीं आता है। अक्सर हम इसके छिलकों को बेकार समझकर कूड़ेदान में फेंक देते हैं, लेकिन अगर आप इनके फायदों के बारे में जान जाएंगे तो कभी ऐसा नहीं करेंगे। प्याज के छिलके दिखने में भले ही बेकार लगते हों, लेकिन असलियत कुछ और ही है। आप इनकी मदद से शरीर की कई परेशानियों को दूर कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि आप प्याज के छिलकों का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं।

Fitness Tips : घर में एक्सरसाइज करके कम कर सकते हैं पेट की चर्बी

(Pyaz Ke Chilke Ke Fayde) प्याज के छिलकों के फायदे-

गले में खराश : अगर आपको गले में खराश की समस्‍या है तो प्‍याज के छिलकों की मदद से इसका इलाज कर सकती हैं। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण यह गले में दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके लिए आपको प्‍याज के छिलके वाली चाय से गरारे करने होंगे।

आंखों की रोशनी बढ़ने:  प्याज के छिलके में भरपूर मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है, जो आंखों की रोशनी बढ़ने का काम करता है और रतौंधी जैसी बीमारियों से भी बचाता है। इसके लिए आप प्याज के छिलके की चाय बनाकर पी जाएं, ये स्किन टेक्चर को भी बेहतर बनाता है।

सर्दी-खांसी के लिए : प्याज के छिलके में विटामिन सी भी पाया जाता है जिसकी मदद से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमताएं बढ़ जाती हैं, जिससे वायरल संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। इससे सर्दी-खांसी और जुकाम जैसी परेशानियां पेश नहीं आती।

बालों के लिए : बालों की सेहत को बेहतर बनाने के लिए भी प्याज के छिलकों को इस्तेमाल में लाया जा सकता है। इसके लिए आप पानी में प्याज के छिलके को डाल लें और करीब एक घंटे बाद इसी पानी से अपना सिर धो लें। इससे हेयर फॉल की परेशानी दूर हो जाएगी।

दिल के मरीजों के लिए:

दिल के मरीजों को प्याज का छिलका वरदान साबित हो सकता है। इसके लिए आप प्याज के छिलकों को धोकर एक पैन में डालें और गर्म पानी में उबाल लें। इसकी बाद इसके छानकर पी जाएं, इससे हार्ट डिजीज का रिस्क कम हो जाएगा।