Health
Health

Health news: लगातार एक ही कुर्सी पर लंबे समय तक बैठे रहने से कई बार कमर, कंधे और पीठ में दर्द की समस्या बढ़ जाती है। कैंसर जैसी बीमारी के कारण पैदा हुआ दर्द तकलीफ बढ़ा देता है। और ये दर्द दिनोंदिन असहनीय होता जाता है। दवाओं से भी यह दर्द ठीक नहीं होता, कई बार डॉक्टर ऐसे मरीजों को ऑपरेशन की सलाह देते हैं। मरीजों में बढ़ते दर्द की समस्या के निदान की तकनीकों पर जानकारी का आदान-प्रदान और परिचर्चा के लिए भोपाल में पहली बार दर्द विशेषज्ञों की कार्यशाला आयोजित हुई।

गांधी मेडिकल कॉलेज के निश्चेतना विभाग की एचओडी डॉ शिखा मेहरोत्रा की अध्यक्षता में दर्द पर कार्यशाला आयोजित हुई। इस कार्यशाला में बिहार, पटना,मुंबई, दिल्ली के अलावा देश भर के निश्चेतना और दर्द विशेषज्ञ एकत्रित हुए। इस कार्यशाला में हमीदिया अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर में ही डॉक्टरों ने मरीजों की तकलीफों के समाधान पर विचार-विमर्श किया।

Fitness tips : इम्यून बढ़ाने के साथ ही मानसिक रूप से फिट करती है मसाज

इन समस्याओं के इलाज पर हुआ मंथन हुआ-

कार्याशाला की आयोजन समिति के सचिव डॉ जयदीप सिंह ने बताया कि कमर की टूटी हुई हड्डी को बिना ऑपरेशन जोडने, स्लिप डिस्क के दूरबीन पद्धति से उपचार, कैंसर के दर्द में इंट्राथीकल तकनीक के बारे में इस कार्यशाला में विशेषज्ञों ने समझा। कमर से पैरों की तरफ जाने वाले दर्द और पैरों में झनझनाहट के उपचार पर भी विशेषज्ञों ने जानकारी साझा की।

निजी अस्पताल में दो लाख का इलाज, हमीदिया में फ्री उपचार-

दर्द की समस्या से जूझ रहे मरीजों को कई बार निजी अस्पताल में इलाज के लिए एक से दो लाख तक खर्च करने पड़ते हैं वही उपचार हमीदिया अस्पताल में निशुल्क मिलता है। हमीदिया अस्पताल में हर सोमवार और गुरुवार को पेन क्लीनिक में दवा-गोली से ठीक न हो पाने वाले दर्द का इलाज किया जाता है।