Jallikattu Event 2023

Jallikattu Event 2023: तमिलनाडु के मदुरै में जल्लीकट्टू कार्यक्रम में भाग लेने के दौरान 60 से अधिक लोगों के घायल होने के एक दिन बाद, जिला प्रशासन ने सोमवार को कहा कि अब उचित बैरिकेडिंग कर दी गई है और सांडों को काबू करने के कार्यक्रम के दौरान हम उम्मीद कर रहे हैं कि आगे कोई दुर्घटना नहीं होगी।

60 लोग हुए घायल-

मदुरै के जिला कलेक्टर अनीश शेखर ने पुष्टि की कि कल अवनियापुरम में जल्लीकट्टू कार्यक्रमों के दौरान लगभग 60 लोग घायल हो गए थे। कुल घायलों में से 20 थोड़े गंभीर थे और उन्हें राजाजी अस्पताल रेफर कर दिया गया, जबकि 40 अन्य को मामूली चोटें आईं और उन्हें घर भेजने से पहले प्राथमिक उपचार दिया गया।

2000 से अधिक पुलिसकर्मी ड्यूटी पर-

मदुरै जिले के पालामेडु में आज जल्लीकट्टू कार्यक्रम की शुरुआत से पहले बोलते हुए, डीसी शेखर ने कहा, “सभी व्यवस्थाएं की गईं हैं। अखाड़े में सांडों, सांडों के मालिकों, खिलाड़ियों के साथ-साथ दर्शकों की सुरक्षित भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए उचित बैरिकेडिंग सुनिश्चित की गई है। 2000 से अधिक पुलिसकर्मियों को ड्यूटी पर लगाया गया है, जो विभिन्न बिंदुओं की रखवाली कर रहे हैं।”

चोट नहीं लगने की उम्मीद-

उन्होंने कहा, “हमें कोई चोट नहीं लगने की उम्मीद है। अगर चोटें आती हैं, तो हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उन्हें सबसे अच्छी चिकित्सा देखभाल दी जाए। इसलिए, सभी व्यवस्थाएं की जा रही हैं। हम जल्लीकट्टू के सुचारू संचालन की उम्मीद करते हैं।”

खतरनाक खेल है जलीकट्टू-

जल्लीकट्टू उत्सव को एक खतरनाक खेल माना जाता है, जिसमें लोग भड़के हुए सांडों को वश में करने की कोशिश करते हुए खुद को घायल कर लेते हैं। विजेताओं को टू-व्हीलर, कपड़े, गहने और पैसे दिए जाते हैं और कई युवा पोंगल त्योहार के दौरान तमिलनाडु में विभिन्न स्थानों पर जल्लीकट्टू कार्यक्रमों में भाग लेते हैं।