Army Day 2023

Army Day 2023: 1949 के बाद पहली बार सेना दिवस परेड दिल्ली से बाहर आयोजित की जा रही है। इस बार सेना दिवस परेड बेंगलुरू में आयोजित की जा रही है। यह पहली बार है जब राष्ट्रीय राजधानी में सेना दिवस समारोह आयोजित नहीं किया जा रहा है।

इसलिए मनाया जाता है सेना दिवस-

हर साल, 15 जनवरी को “सेना दिवस” ​​​​के रूप में मनाया जाता है। इसका इतिहास तबसे जुड़ा है, जब जनरल (बाद में फील्ड मार्शल) केएम करियप्पा ने 1949 में अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल सर एफआरआर बुचर से भारतीय सेना की कमान संभाली थी और स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ बने थे।

75वें सेना दिवस का गवाह बना बैंगलोर-

75वें सेना दिवस समारोह की शुरुआत मद्रास इंजीनियरिंग वॉर मेमोरियल में माल्यार्पण समारोह के साथ हुई, जहां मेजर जनरल पांडे ने बहादुरों को श्रद्धांजलि दी।

कर्नाटक दिल्ली के बाहर पहली बार इस मेगा राष्ट्रीय आयोजन की मेजबानी करने वाला पहला राज्य बन गया है। परेड कमांडर मेजर जनरल रवि मुरुगन ने संवाददाताओं से कहा, इस प्रकार स्वतंत्रता के बाद पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ बन गए।

परेड में हिस्सा ले रहे ये दल-

परेड में सेना सेवा कोर के एक घुड़सवार दल और पांच रेजिमेंटल बैंड वाले एक सैन्य बैंड सहित आठ दल भाग ले रहे हैं।

इसके अलावा, सैन्य प्रदर्शन में बैंड डिस्प्ले, बाइक स्टंट और स्काईडाइविंग का भी प्रदर्शन किया जाएगा। परेड में सेना के उड्डयन ध्रुव और रुद्र हेलीकॉप्टरों का फ्लाई पास्ट भी होगा।

K9 वज्र स्व-चालित बंदूकें, पिनाका रॉकेट, T-90 टैंक, BMP-2 इन्फैंट्री फाइटिंग व्हीकल, तुंगुस्का एयर डिफेंस सिस्टम, 155mm बोफोर्स गन, लाइट स्ट्राइक व्हीकल, स्वाति राडार सहित कई हथियार परेड में प्रदर्शित होंगे।