Upcoming Highways In India

Upcoming Highways In India: भारत के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री (MorTH) नितिन गडकरी ने भारतीय सड़कों और हाईवेज़ का चेहरा बदलने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने यहां तक ​​कहा है कि भारत का रोड स्ट्रक्चर 2024 तक अमेरिकी स्टैंडर्ड के बराबर हो जाएगा। यह एक बड़ा बयान है और इसे पूरा करने के लिए बहुत काम करना होगा।

नितिन गडकरी देश के सड़क ढांचे को बेहतर बनाने के लिए काफी प्रयास कर रहे हैं और यही कारण है कि जब वे इस तरह के बयान देते हैं तो लोग वास्तव में उन पर विश्वास करते हैं। उन्होंने किसी भी अन्य मंत्री की तुलना में अधिक सड़क और हाईवे प्रोजेक्ट्स को शुरू किया और उनकी योजना इससे भी ज्यादा प्रोजेक्ट्स को लेने की है।

बीते कुछ वर्षों में एक क्षेत्र जिसने हाल के वर्षों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी है, वह है एक्सप्रेसवे का निर्माण। एक्सप्रेसवे हाई-स्पीड, सीमित-पहुंच वाले राजमार्ग हैं जो प्रमुख शहरों और क्षेत्रों को जोड़ने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। इन एक्सप्रेसवे पर कई लेन होती हैं और कोई चौराहे नहीं होते, जो उन्हें लंबी दूरी की यात्रा के लिए आदर्श बनाते हैं।

आने वाले वर्षों में, भारत में कई नए एक्सप्रेसवे बनने वाले हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं उन 5 एक्सप्रेस वे के बारे में, जिनके 2023 में पूरा होने की उम्मीद है:

द्वारका एक्सप्रेसवे – 29 किलोमीटर

पहले शहरी एलिवेटेड एक्सप्रेसवे के रूप में जाना जाने वाला द्वारका एक्सप्रेसवे गुरुग्राम के साथ राजधानी दिल्ली के पश्चिमी हिस्से की कनेक्टिविटी को बढ़ावा देगा और एनएच 8 के डिस्टेंस को भी कम करेगा। इस एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई लगभग 29 किलोमीटर है और इसके 2023 के मध्य तक तैयार होने की उम्मीद है।

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे – 1,382 किलोमीटर

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे सरकार की एक महत्वपूर्ण परियोजना है जो दो महानगरों के बीच सड़क यात्रा के समय को 12 घंटे तक कम करने के लिए तैयार है और कुल लंबाई में लगभग 1,382 किलोमीटर तक फैली हुई है। यह परियोजना लगभग पूरी होने वाली है और इसके 2023 की पहली तिमाही में तैयार होने की उम्मीद है।

अहमदाबाद-धोलेरा एक्सप्रेसवे – 110 कि.मी

अहमदाबाद-धोलेरा एक्सप्रेसवे गुजरात राज्य के सबसे बड़े शहर अहमदाबाद शहर को धोलेरा विशेष निवेश क्षेत्र (डीएसआईआर) से जोड़ने की एक परियोजना है। एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई लगभग 110 किलोमीटर होगी और यह गुजरात के कई प्रमुख शहरों और कस्बों से होकर गुजरेगा। उम्मीद है कि अहमदाबाद और डीएसआईआर के बीच यात्रा का समय घटकर केवल दो घंटे रह जाएगा।

अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेसवे – 1,257 किमी

अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेसवे की लंबाई लगभग 1,257 किलोमीटर होगी और इसके सितंबर 2023 तक तैयार होने की उम्मीद है। यह अमृतसर और जामनगर के बीच यात्रा के समय को 26 घंटे से घटाकर केवल 13 घंटे कर देगा। यह एक रणनीतिक एक्सप्रेसवे है, जो तीन तेल रिफाइनरियों और दो थर्मल पावर प्लांट को जोड़ता है।

मुंबई-वडोदरा एक्सप्रेसवे – 379 किलोमीटर

यह एक्सप्रेसवे पश्चिमी भारत के दो प्रमुख आर्थिक केंद्रों मुंबई और वडोदरा शहरों को जोड़ने के लिए बनाया जा रहा है। एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई लगभग 379 किलोमीटर होगी और यह कई प्रमुख शहरों और कस्बों से होकर गुजरेगा। इससे दोनों शहरों के बीच यात्रा के समय को घटाकर सिर्फ छह घंटे करने की उम्मीद है।

इन एक्सप्रेव वे के बनने के बाद उम्मीद है कि ये प्रमुख शहरों और क्षेत्रों के बीच कनेक्टिविटी में काफी सुधार करेंगे और इनसे देश की अर्थव्यवस्था और विकास पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ने की उम्मीद है।