भोपाल। भारत में जर्मन डेव्हलपमेन्ट कॉर्पोरेशन के हेड और जर्मन दूतावास में मंत्री उबे गेहलेन विश्व प्रसिद्ध साँची स्तूप को देख कर अभिभूत हो गये। मंत्री गेहलेन ने विजिटर बुक पर लिखा कि- उन्होंने रायसेन जिले के साँची में मौजूद विभिन्न प्रकार की उपलब्धियों और इतिहास को करीब से जाना। साँची के मुख्य स्तूप का भ्रमण करने के बाद उन्होंने सभी को हार्दिक धन्यवाद देते हुए संदेश पुस्तिका पर लिखा कि “यह एक आदर्श स्थान है इसे कई और पीढ़ियों के लिए रखें, अच्छा चलता रहे, ऐसी हमारी शुभकामनाएँ।’’

गेहलेन ने साँची स्तूप के भ्रमण के दौरान टूरिस्ट गाइड से अपनी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। गेहलेन को “स्ट्रांगहोल्ड ऑफ मध्यप्रदेश’’ और “रिसरजेंस फ्रॉम रूइन्स, द साँची सागा’’ पुस्तकें भी भेंट की गई।

केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने भोपाल, सिवनी के लिए दिए 162.84 करोड़ रूपये

भोपाल। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने सेतु बंधन योजना में मध्यप्रदेश के लिए चार महत्वपूर्ण विकास परियोजनाओं को मंजूरी दी है। यह विकास परियोजनाएँ भोपाल, सिवनी और ग्वालियर जिलों के लिए हैं।

छोला रेलवे ओवर ब्रिज काली परेड से अयोध्या बायपास भोपाल के निर्माण के लिए मंत्रालय ने 32 करोड़ 44 लाख रूपए की राशि स्वीकृत की है। इसी प्रकार रेलवे ओवर ब्रिज नेशनल हाई-वे नंबर-7 सिवनी सिटी जिला सिवनी के लिए 126 करोड़ 40 लाख रूपए स्वीकृत किये हैं। यह राशि केंद्रीय सड़क और अधो-संरचना कोष अधिनियम 2000 सेतु बंधन योजना में स्वीकृत की गई है।

‘गांधी गोडसे एक युद्ध’ फिल्म को MP में टैक्स फ्री किया जाए : हिंदू महासभा

इसी प्रकार मंत्रालय ने सेतु बंधन योजना में रेलवे अंडर ब्रिज डबरा रेलवे स्टेशन के पास हरिशंकर पुरम से महलगांव रेलवे ट्रैक ग्वालियर और मोहना रेलवे ओवरब्रिज ग्वालियर के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है।

लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने केंद्र सरकार को उक्त कार्यों की स्वीकृति के लिये धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इससे जिलों के विकास को और ज्यादा गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से मध्यप्रदेश को सड़क अधो-संरचना निर्माण के क्षेत्र में पूरा सहयोग मिल रहा है। बढ़ती सड़क अधो-संरचना से मध्यप्रदेश देश की अर्थ-व्यवस्था में भरपूर योगदान देने में सक्षम बनेगा।