भोपाल। तीन दिन के अति व्यस्तता वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन के कार्यक्रम के बीच भी सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कुछ ऐसे पल निकाल लिए हैं, जो इस सम्मेलन में शामिल हुए मेहमानों को कुछ यादगार पल अपने साथ ले जाने के लिए जुटाने के लिए पर्याप्त हो गए हैं। शनिवार शाम से इंदौर पहुंच चुके मुख्यमंत्री शिवराज ने रविवार को जहां पतंग उत्सव में पेंच दिखाए, वहीं इस सम्मेलन की यादों को संजोती एक पुस्तक का विमोचन भी किया। छप्पन दुकान की चाट महफिल के माध्यम से भी उन्होंने प्रवासी भारतीय अतिथियों के और करीब पहुंचने में सफलता अर्जित की।

इंदौर के प्रतिष्ठापूर्ण आयोजनों में शामिल पतंग महोत्सव के इस साल के सीजन का शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को किया। इस दौरान उन्होंने न सिर्फ डोर हाथ में थाम कर पतंग को दूर आसमान तक ऊंचाई दी, बल्कि यहां आयोजित गीत संगीत के कार्यक्रम में सुरों की परवान भी लहराई। इंदौर सांसद शंकर लालवानी, मंत्री तुलसी सिलावट, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा आदि भी इस आयोजन के साक्षी बने।

म्हारो इंदौर का विमोचन

विदेशों से आए भारतीयों को इंदौर की संस्कृति, परंपरा और आधारभूत संरचना से अवगत कराने के लिए एक पुस्तक म्हारो इंदौर का विमोचन भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया। पुस्तक के संपादक अन्ना दुराई ने बताया कि विदेशी भारतीयों को ये पुस्तक उपहार स्वरूप भेंट की गई है। साथ ही इसकी ई बुक भी लांच की गई है। विमोचन समारोह में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी मौजूद थे।

शिवराज बने नायक

अप्रवासी भारतीय मेहमानों से चाट पर चर्चा के लिए जब सीएम शिवराज 56 दुकान पहुंचे तो वहां मौजूद मेहमानों में उनके साथ सेल्फी लेने की होड़ लग गई। देर तक चले इस सिलसिले के बीच हर व्यक्ति शिवराज के साथ अपनी एक तस्वीर मोबाइल में कैद करने के लिए लालायित दिखाई दिया। बाद में जब चाट और चर्चा का दौर शुरू हुआ तो शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह ने एक कुशल और व्यवहारिक मेजबान की भूमिका निभाई। उन्होंने अतिथियों को आग्रह के साथ अपने हाथों से पकवान परोसे और उनके साथ लंबा समय बिताया।

Pravasi Bharatiya sammelan : प्रवासियों का सम्मान करेंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु