Online fraud
Online fraud

भोपाल। गोविंदपुरा थाना क्षेत्र स्थित गौतम नगर में एक व्यावसायी को ऑनलाइन मसार्जर बुलाना महंगा पड़ गया। पहली बार उन्होंने ऑनलाइन आर्डर किया तो उन्हें बॉक्स में कागज के टुकड़े मिले थे। दूसरी बार ऑर्डर करने पर उन्हें मसार्जर न मिलकर प्लास्टिक का स्टूल मिल गया। उन्होंने डिलेवरी ब्वाय से कंपनी का नाम पूछा और पुलिस को शिकायत की।

पुलिस ने उक्त मामले इंस्टा कार्ट कंपनी और निंबस पोस्ट कंपनी के अज्ञात कर्मचारियों पर मामला दर्ज किया है। पुलिस जांच कर रही है। तीन चार प्रक्रिया से डिलेवरी होने के कारण पुलिस असल आरोपी तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।
एसआई मुकेश स्थापक ने बताया कि राजेश बजाज (55) मकान नंबर-246 गौतम नगर, गोविंदपुरा में रहते हैं। वे होटल का संचालन करते हैं।

उन्होंने पुलिस को शिकायती आवेदन देते हुए बताया कि फेसबुक पर एक मसार्जर देखा था। उसकी कीमत दो हजार रुपए थी। मसार्जर पसंद आने पर उन्होंने उक्त मसार्जर को दिसंबर महीने में इंस्टा कार्ट के माध्यम से बुक किया। उन्होंने केस ऑन डिलेवरी का ऑप्शन दिया था। उनके घर डिलेवरी ब्वॉय आया और उन्होंने उसे रुपए दे दिए। डिलेवरी ब्वाय के जाने के बाद उन्होंने बॉक्स खोला तो बॉक्स में मसार्जर नहीं था, बल्कि कागज के गत्ते (टुकड़े) थे।

Fraud: 5 एकड़ जमीन का लालच पहुंचाएगा सलाखों के पीछे

केस ऑन डिलेवरी-

उन्होंने फ्लिप कार्ड समेत अन्य कंपनियों के नंबर अरेंज कर शिकायत करनी चाही, लेकिन वे शिकायत नहीं कर सके। उन्होंने दौबारा इसी प्रोसेस फिर मसार्जर की बुकिंग की। इस बार भी उन्होंने केस ऑन डिलेवरी की थी। उनके घर डिलेवरी ब्वाय सामान लेकर पहुंचा तो उन्होंने उसे रोक लिया और उसके सामने बॉक्स खोला। इस बार भी मसार्जर की जगह प्लास्टिक का स्टूल निकला।

इंस्टाकार्ट और निंबस पोस्ट के कर्मचारियों पर प्रकरण दर्ज-

उन्होंने डिलेवरी ब्वाय को धमकाते हुए कंपनी का नाम पूछा तो उसने बताया कि वह निंबस पोस्ट कंपनी का कर्मचारी है। उसका काम पार्सल डिलेवर करना है। पार्सल पैक करना नहीं। राजेश बजाज ने घटना की शिकायत गोविंदपुरा पुलिस से की थी। गोविंदपुरा पुलिस ने इंस्टाकार्ट और निंबस पोस्ट के कर्मचारियों पर प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।