Fraud in the name of getting a flat
Fraud in the name of getting a flat

भोपाल। जहांगीराबाद पुलिस ने कोतवाली के निगरानी बदमाश पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। उस पर आरोप है कि लक्ष्मी परिसर में बनी बीडीए की मल्टी में वह फ्लैट दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी कर रहा था। आरोपी अब तक आधा दर्जन लोगों से ठगी की वारदात कर चुका था। पुलिस प्रकरण दर्ज कर आरोपी की तलाश कर रही है।

एएसआई अजय दुबे ने बताया कि गल्लामंडी बरखेड़ी निवासी रिषभ सेन निजी वाहन चलाते हैं। रिषभ सेन को लक्ष्मी परिसर में फ्लैट खरीदना था और उनकी मुलाकात शानू उर्फजीशान उर्फरहमान पिता छोटे मियां से हो गई। शानू ने उन्हें लक्ष्मी परिसर में फ्लैट दिलाने का झांसा दिया। उसने कहा कि उसकी बीडीए में अच्छी पहचान है और वह उन्हें बिना किसी परेशानी के फ्लैट का अलाटमेंट करा देंगे। बदले में आरोपी ने उनसे सवा लाख रुपए ले लिए।

इतना ही नहीं आरोपी ने सतेंद्र, कप्तान, अशोक  समेत छह लोगों को फ्लैट दिलाने का झांसा देकर किसी से एक तो किसी से सवा लाख रुपए लिए थे। रुपए देने के एक साल बाद भी जब लोगों को फ्लैट नहीं मिला तो उन्होंने आरोपी से अपने रुपए वापस मांगे थे।

आरोपी ने उन्हें रुपए लौटाने से इंकार कर दिया। इसके बाद ठगी के शिकार हुए लोगों ने जहांगीराबाद थाने में और आलाधिकारियों को शिकायती आवेदन दिया था। आवेदन जांच के बाद पुलिस ने ठगी का मामला दर्ज कर लिया है। ठगी का शिकार हुए लोगों में दो फरियादी रिषभ सेन के चाचा है।

Cheating : नोट की गड्डी दिखाकर अस्सी साल की रिटायर्ड डॉक्टर से अंगूठी, चेन और सोने के कड़े ठगे

शहरी आजीविका केन्द्र का शुभारंभ

भोपाल। राजधानी स्थित सोनचिरैया शहरी आजीविका केन्द्र का शुभारंभ हो गया है। मंगलवार को महापौर मालती राय और निगम परिषद अध्यक्ष किशन सूर्यवंशी ने इसका शुभारंभ किया। दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका अंतर्गत नगर निगम में संचालित शहरी आजीविका केन्द्र 05 नंबर स्टॉप शिवाजी नगर स्थित पं. शीतल प्रसाद तिवारी वाचनालय के प्रथम तल पर प्रारंभ किया गया है।

इस अवसर पर महापौर और निगम परिषद अध्यक्ष सूर्यवंशी ने स्वसहायता समूहों द्वारा निर्मित उत्पादों का अवलोकन किया और उत्पादों के संबंध में चर्चा भी की। इस आजीविका केन्द्र में स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा बनाये गये विभिन्न उत्पादों को मार्केट में उपलब्ध कराने हेतु उचित प्लेटफार्म उपलब्ध कराया जायेगा। जिससे समूह की महिलाओं द्वारा निर्मित उत्पाद अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके और उनकी आय में वृद्धि हो सके इसके साथ ही आजीविका केन्द्र द्वारा जनमानस की आवश्यकता के अनुरूप मूलभूत सुविधायें जैसे कारपेंटर, ड्रायवर, प्लंबर आदि सेवायें भी उचित दर पर उपलब्ध कराई जाएंगी।

महापौर ने अपने उद्बोधन में कहा कि मुख्यमंत्री कि मंशा के अनुरूप माता, बहिनों को रोजगार के लिये एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराया जा रहा है। एक समूह में 15 महिलायें होती हैं जिससे 15 परिवारों को रोजगार मिलता है। बहिनें अपना स्वयं का सामान बनायें, नागरिकों की सुविधा के दृष्टिगत नगर निगम भोपाल द्वारा घर पहुंच सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। निगम परिषद अध्यक्ष किशन सूर्यवंशी ने कहा कि अमूल दूध एवं लिज्जत पापड भी इसी तरह स्वसहायता समूह ने शुरू किया था।

आजीविका मिशन के माध्यम से गरीब महिलाओं को जोड़ा जा रहा है। आप स्वयं को रोजगार दें और दूसरों को भी रोजगार उपलब्ध कराये। इस अवसर पर महापौर परिषद सदस्य छाया ठाकुर अपर आयुक्त टीना यादव, सहित अनेक जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे।